Chudai Ki Kahani | ammi ki chudai ki kahani | sex story urdu 2020 | ammi ko choda | 2021

chudaikikahani, assamese sex story, ammi ko choda, assamese sex stories, ammi ki chudai, chudai ki kahani, ammi ki chudai story, ammi ko choda sex story, ammi ko choda story, manipuri sex story, sex kahani 2020 1, call me sherni nipples, assamese sex kahini, sex story urdu 2020, urdu sex kahani 2020, assamese new sex story, ammi ki chudai kahani, sex story 2020, ammi sex story, ammi sex stories, chudai kahani

Breaking

Monday, July 27, 2020

{CHECK HERE} Bua Ki Ladki Ke Saath Sex

यह तब की बात है जब बुआ की बड़ी लड़की की शादी थी और मैं शादी के इंतजाम के लिए एक महीना पहले चला गया था.

{CHECK HERE} Bua Ki Ladki Ke Saath Sex


बुआ की लड़की ने चूत दिलाई


मेरी बुआ के घर में एक किराएदार रहते थे उनकी एक लड़की थी नाम था Anisha! वो बहुत सुन्दर थी, मैं उसे चोदना चाहता था.
जब मैंने बुआ की एक लड़की Swastika को अपने मन की बात बताई कि मैं Anisha को प्यार करने लगा हूँ, तो Swastika ने तभी अपने प्यार की बात बताई कि वो मन ही मन मुझे प्यार करने लगी थी और मुझे चूम लिया.
मैं भी जज्बात में बह गया और मैंने भी उसे चूम लिया.

हम दोनों पास-पास ही सोते थे. एक रात जब हम दोनों सोये हुए थे तो मुझे नींद नहीं आ रही थी और मैं Swastika की नाइटी में हाथ डाल कर उसकी चूची दबाने लगा. पर शायद वो गहरी नींद में थी, मेरी हिम्मत बढ़ी, मैंने उसकी पेंटी के ऊपर हाथ फिराया तो पाया उसने नेपकिन लगाया हुआ है, और पता नहीं कब नींद आ गई.

सुबह जब मैंने Swastika को बताया कि मैंने तेरी पेंटी पर हाथ फिराया था तो उसे विश्वास ही नहीं हुआ कि मैंने ऐसा किया होगा.
जब मैंने उसे नेपकिन वाली बात बताई जब उसने मान लिया कि मैं सच बोल रहा हूँ.
तब मैंने उससे सेक्स पर बात करनी चालू कर दी.

अगली रात को मैंने उससे कहा- चल कुछ सेक्स हो जाये!
तो वो बोली- नहीं!
मैं- क्यों? तू तो मुझसे प्यार करती है फिर क्यों नहीं?
Swastika- मैं गन्दा काम नहीं कर सकती.
मैं- गन्दा मतलब?
Swastika- वो ही जो तुम चाहते हो!
मैं- चुम्मी तो दे दे!
Swastika- चल ठीक है!

मैंने उसको खूब चूमा और उसकी कपड़ों के ऊपर से ही चूचियाँ सहलाई. वो गर्म होने लगी पर शरमा रही थी. मैं उसकी शर्म दूर करने के लिए उससे बात करने लगा.
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं.

मैं- तेरा क्या नाप है?
और मेरे हाथ अपना काम कर ही रहे थे.
Swastika- 32″
मैं- कभी दबवाई हैं या नहीं?
वो ही जबाब जो हर रण्डी भी देती है- नहीं!

फिर मैं अपना हाथ धीरे धीरे उसकी नाइटी में डालने लगा तो उसने मना कर दिया.
मैंने कहा- क्यों?
उसने कहा- ऊपर से चाहे जो कर लो, पर अंदर नहीं!
मैंने पूछा- क्यों? अंदर क्यों नहीं?
तो उसने कहा- बस ऐसे ही!

मैं ऊपर से ही उसकी चूत पर हाथ फिराता रहा पर मुझसे रुका नहीं जा रहा था, मैंने उसे कहा- मेरा लण्ड तो पकड़ ले!
उसने पजामे के ऊपर से ही लण्ड पकड़ कर सहलाया.
मैंने कहा- हाथ तो अंदर डाल ले!

उसने मना कर दिया, मुझे बहुत गुस्सा आया पर मैं शांत रहा और अपना अपना लण्ड पजामे से बाहर निकल कर उसके हाथ में दे दिया. वो भी धीरे धीरे गर्म हो गई, मैंने मौके का फ़ायदा उठाया और उसके चूचे अंदर हाथ डालकर पकड़ लिए और प्यार से हाथ फिराने लगा.
फ़िर मैंने अपना पानी उसके पेट पर गिराया और उससे चिपक कर सो गया.

अगली रात को हम फिर चालू हो गए. वो कुछ खुल कर कर रही थी.
मैंने उसे कहा- चुम्मी लेनी है.
उसने कहा- ले लो!
मैंने कहा- नीचे की लेनी है.

वो शरमा गई और मैं उसके कपड़े उतारने लगा, उसका विरोध न के बराबर था पर उसने पेंटी और ब्रा नहीं उतारने दी और मैंने पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को चूमना चालू कर दिया.
वो बहुत गर्म हो गई और मुझे लिटा कर मुझे नंगा करके मेरा लण्ड अपने मुँह में लिया और चूसने लगी.

READ THESE STORY ⬇️⬇️⬇️⬇️

मुझे बहुत मजा आया, मैंने उसकी ब्रा उतारी और उसकी चूची मुँह में ली और चूसने लगा. उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी. फिर मैंने पेंटी उतारी और उसकी चूत को चाटने लगा. वो गली बकने लगी. मेरा जोश और बढ़ गया.
Swastika- बहनचोद… अ आ आह और चाट साले! तेरी माँ की चूत!
मैंने मुँह हटा कर उसकी चूत में उंगली डाल दी और मैं भी गाली देने लगा.
मैं- रण्डी, साली! रखैल! तेरी चूत को चोद कर भोंसड़ा बना दूँगा.

फिर हम 69 की अवस्था में हो गए और मैं उसकी चूत और वो मेरे लण्ड को चूसने लगी और कमरे में सेक्स का माहौल हो गया. वो साली पूरी रण्डी की तरह मेरे लण्ड को चूसने लगी. मेरे लण्ड का पानी उसके मुँह में ही निकल गया तो वो उलटी करने लगी.

मैंने उसे सीधा लिटाया और उसके मुँह में दुबारा लण्ड दे दिया. मेरा लण्ड दुबारा खड़ा हो गया तो मैंने अपना लण्ड उसकी चूत के ऊपर रगड़ना चालू किया पर उसने मना कर दिया- कुछ भी कर लो पर मुझे मत चोदो! मैं नहीं चुदना चाहती.
पर मैंने जबरदस्ती उसकी चूत में लण्ड डाल दिया. वो रोने लगी.
मैंने कहा- बहन की लौड़ी, क्यों रो रही है? आज तो तेरी माँ चोद कर ही हटूँगा.

वो रोती ही रही फिर उसे भी मजा आने लगा और वो अपने हाथ मेरी पीठ पर चलाने लगी और बोलने लगी- फाड़ दे मेरी चूत को! भोंसड़ी के! बड़ा तड़पाया है इस चूत ने आज तक! आ… आह्ह्ह ओह्ह्ह… मजे आ गया.
मेरा निकलने वाला था तो मैंने पूछा- किधर निकालूँ?
उसने कहा- बाहर निकालना!

मैंने अपना लण्ड बाहर खींचा और अपना पानी उसकी झांटोँ पर डाल दिया और हम नंगे ही चिपक कर लेट गए.
मैंने पूछा- मजा आया?
तो वो बोली- हाँ!
अब तो रोज की चुदाई पक्की थी पर मेरा शिकार तो और कोई थी.

असल में Swastika तो बस एक काम चलाऊ चीज थी, मुझे तो Anisha को चोदना था.

एक रात Swastika को चोदते समय मैंने Swastika से कहा- मुझे Anisha की चूत मारनी है!
तो वो नाराज हो गई और बोली- उस रण्डी की चूत क्या मेरी से ज्यादा अच्छी है?
मैंने कहा- नहीं यार! चल उसे नंगी तो दिखवा दे!
तो वो बोली- नहीं!
मैं बोला- मैं तेरा पति नहीं हूँ, न ही हो सकता हूँ, यह तू भी जानती है. तूने भी तो लण्ड के मज़े लेने को ही मेरे से अपनी चूत चुदवाई है तो फिर मुझे क्यों नहीं Anisha की चूत दिला सकती है तू?
वो बोली- नहीं!

फिर मेरे जिद करने पर वो राज़ी हो गई पर बोली- मेरी चूत भी मारनी होगी! कहीं उस रण्डी के चक्कर में मेरी चूत को ही भूल जाये?
मैंने कहा- नहीं मेरी जान! तेरी चूत को कैसे भूल सकता हूँ मैं? बहन की चुदाई 

तो अगली रात उसने Anisha को भी साथ में सुला लिया और अब हम तीनों साथ में थे. एक तरफ़ मैं, बीच में Swastika और दूसरी तरफ़ Anisha!
थोड़ी देर बाद मैं सोने का नाटक करने लगा और Swastika Anisha की चूची से खेलने लगी और Anisha Swastika की चूचियों से!
Swastika ने Anisha से कहा- यार, अगर लण्ड मिल गए तो मजा आ जाये!
Anisha बोली- अपने भाई को पटा ले तो लण्ड मिल जायेगा.

मैं सोने का नाटक करते हुए सब सुन रहा था, मेरा लण्ड तूफान की तरह हिल रहा था और मैं अपने लण्ड को Swastika की गाण्ड पर रगड़ रहा था पर इस तरह कि Anisha को पता न चले.
फिर Swastika ने Anisha से कहा- अगर यह तेरे साथ सेक्स करे तो तू करेगी या नहीं?
उसने कहा- हाँ करुँगी.
क्योंकि वो Swastika के हाथों से गर्म हो गई थी.

Anisha ने कमीज-पजामा पहना था, Swastika ने उसके कपड़े उतार दिए और ब्रा और पेंटी ही छोड़ी उसके बदन पर!
Anisha ने Swastika को नंगी कर दिया!
तब Swastika ने मुझ से कहा- मेरे शेर, खड़ा हो! देख तेरा शिकार पानी छोड़ रहा है.

मैं खड़ा हुआ तो Anisha शर्माने लगी और अपने ऊपर चादर डाल ली.
Swastika बोली- अभी तो बहुत उछल उछल कर लण्ड मांग रही थी और अब छिप रही है?
Anisha बोली- तुझे अपने भाई के सामने नंगी होने में शर्म नहीं आ रही क्या?
तो Swastika बोली- मैं तो इससे चुद भी चुकी हूँ और इसकी इच्छा तुझे चोदने की है तो इसलिए आज की रात तुझे अपने साथ सुलाया है.

अब अमि़ता की भी शर्म कम होने लगी और Swastika मेरे लण्ड को मसलने लगी.
थोड़ी देर बाद Anisha बिल्कुल बेशर्म हो गई और मेरा लण्ड मुँह में लेकर चूसने लगी.

मैं सीधा लेट गया और Swastika अपनी चूत मेरे मुँह पर रख कर बैठ गई. अब मैंने Anisha की पेंटी और ब्रा खोल दी तो Anisha मादरजात नंगी हो गई. क्या रूप था! संतरे जैसी चूचियाँ! गोरा बदन! गोल जांघें! और उनके बीच में सुनहरी छोटी झांटों वाली चूत! यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं.
मैं तो देख कर ही पागल हो गया, मैंने Anisha के होंठों को चूम लिया और उनका रस पीने लगा.

फिर मैं धीरे धीरे उसकी पतली गर्दन को चूमने लगा. वो अन्तर्वासना में पागल होने लगी. फिर मैं उसकी चूची के अंगूर को चूसने लगा और Swastika मेरे लण्ड को मुँह लेकर अपने मुँह को चुदवा रही थी.
सोचो दोस्तो, कैसा माहौल होगा- दो लड़कियाँ और एक लड़का, एक उसकी बहन और एक जिसे वो चोदना चाहता हो!

फिर मैंने Anisha की दूसरी चूची चूसी. फिर मैं निचे हुआ और Anisha की नाभि पर पहुँच गया. नाभि को जीभ से चाटने के बाद मैंने Anisha की चूत चाटी. Anisha की चूत चाटने के कारण उसकी चूत का दाना खड़ा हो गया और उसकी चूत पानी छोड़ने लगी. मैंने उसका पूरा नमकीन पानी चाट कर साफ किया तब Anisha कहने लगी- क्यों तड़पा रहे हो? अब मुझे चोद दो!
तो मैंने Swastika से कहा- इसके मुँह पर अपनी चूत रख दो.

तभी Swastika Anisha के मुँह पर अपनी चूत रख कर बैठ गई और Anisha उसकी झांटों वाली गुलाबी चूत को चाटने लगी. मैंने अपना लण्ड का सुपारा Anisha की चूत पर रखा और एक जोरदार धक्का मारा, चूत चिकनी होने की वजह से लण्ड एक ही बार में आधा अंदर चला गया और Anisha के मुँह पर Swastika की चूत होने की वजह से उसकी चीख मुँह में ही दब कर रह गई.
मैंने धक्के लगाने शुरु किए और अब लण्ड प्यार से अंदर-बाहर चल रहा था और कमरे में मेरी, Anisha और Swastika की सिसकारियाँ गूंज रही थी.

तभी मैंने Anisha को खड़ा किया और घोड़ी बना कर पीछे से उसकी चूत मारने लगा और Swastika भी अब लण्ड मांगने लगी.
मैंने Swastika से कहा- तेरी तो मैं गाण्ड मारूँगा!
वो कहने लगी- कुछ तो मार मेरा भी!

फिर मैंने Swastika की गाण्ड पर थूक लगा कर लण्ड अंदर कर दिया और Swastika बोलने लगी- बहनचोद! मेरी गाण्ड फाड़ डाली! आह ओ ओ ओ ओह निकाल बहार मादरचोद!
तब Anisha बोली- साली रखैल! अब पता चला कैसा दर्द होता है?
Anisha मेरे लण्ड और Swastika की गाण्ड को चाटने लगी.

मेरा निकलने वाला था, मैंने कहा- मेरा पानी कौन पिएगी?
तो Anisha बोली- मेरे मुँह में डाल दो.
फिर मैं खड़ा हो गया और Anisha नीचे बैठ गई और लण्ड चूसने लगी. मेरा सुपारा उसके मुँह में था. फिर मैं उसके मुँह को चोदने लगा और थोड़ी देर में मेरा सारा पानी Anisha के मुँह में गिर गया और सारा पानी वो चाट गई जैसे रसमलाई खा रही हो.

अब मैंने Anisha की चूत देखी तो पाया कि चूत सूज गई थी.
फिर Swastika ने कहा- मेरी चूत क्या तेरा बाप मारेगा?
फिर एक बार Swastika की चूत मार कर हम तीनों नंगे ही सो गए.

अब Anisha और Swastika मेरी रखैल बन गई, जब भी मौका मिलता, मैं उन दोनों को चोद देता था. अब हमारी जिन्दगी अच्छी चल रही थी.

No comments:

Post a Comment