Bhabhi Sex With a Dog | Kutte Ki Jabardast Chudai

Bhabhi Sex With a Dog | Kutte ni Jabardast Chudai

adult xxx kahani,से कहानी, कुेके लंड के मज़े,जानवर के साथ औरत की चुदाई ki xxx story

hindi,घोड़ेनेचोदा animal sex story,कुेनेचोदा kutte ke saath aurat ki sexकुेनेकी मेरी पहली

चुदाई,कुेनेचूत मलंड फँसा िदया.टॉमी के मुँह पर सेसमीना का हाथ उसकी गदन पर आ गया और िफर

उसके पेट को सहलानेलगी। जब समीना की नज़र टॉमी की खुली और फ़ैली ई टाँगोंपर पड़ी… और उसे

वहाँवो ही चीज़ नज़र आयी िजसेवो थोड़ी देर पहलेअपनेपांव और सडल सेसहला रही थी। समीना की नज़र

उसी पर जम कर रह गयी… टॉमी के लंड पर! वो उसेदेखेजा रही थी… िबना िकसी और तरफ़ देखे… िबना

अपनी पलकझपकाये। वो सुखरंग का लंबा सा… चमकता आ िकसी ही की तरह ही लग रहा था। मगर

इस व बहोत ादा अकड़ा आ नहींथा िफ़र भी काफ़ी लंबा लग रहा था। करीब-करीब आठ इंच तो होगा

वो इस व भी। आगेसेिबुल पतला सा नोकदार और पीछेको जातेए मोटा होता जाता था… फैलता

जाता था। उसके लंड के अगलेसुराख मसेभी हा-हा पानी रस रहा था। समीना का हाथ अभी भी टॉमी

के िज पर था और उसकी पसिलयोंको सहला रहा था। समीना का हाथ आिहा-आिहा आगेको सरकने

लगा… टॉमी के लंड की तरफ़!


उसका िदल ज़ोर-ज़ोर सेधड़क रहा था। वो खुद को रोकना चाह रही थी मगर उसका िज उसके काबूम

नहींथा। हाथ आिहा-आिहा सरकता आ आगेको बढ़ रहा था। चंद लोंमही समीना का हाथ टॉमी के

लंड के करीब पँच चुका आ था। अपनेधड़कतेए िदल के साथ समीना नेअपनी उंगली सेउसके लंड की

नोक को छुआ और फ़ौरन ही अपना हाथ वापस खीचं िलया… जैसेउसमकोई करंट हो… या जैसेउसका लंड

उसकी उंगली को काट लेगा… या उसेडंक मार देगा! मगर टॉमी के लंड मज़रा सी हरकत पैदा होनेके िसवा

और कुछ भी नहींआ। उसका लंड वैसेका वैसेही उसकी रान के ऊपर पड़ा रहा।कुछ ही देर के बाद

समीना नेदोबारा सेअपनी उंगली सेटॉमी के लंड को छूना शु कर िदया। इस पोिज़शन मलेटेए समीना

का हाथ बड़ी ही मुल सेटॉमी के लंड तक पँच रहा था। कुछ सोच कर समीना थोड़ा सी हरकत करतेए

टॉमी के िज के िनचलेिहेकी तरफ़ सरक गयी। अब उसकी उंगली बड़ी आसानी के साथ टॉमी के पूरे

लंड पर सरक रही थी… उसेसहला रही थी। समीना नेटॉमी के चेहरेकी तरफ़ देखा मगर उस जानवर ने

कौनसा कोई अपनेचेहरेसेतासुरात देनेथेजो वो समीना की हरकत सेखुशी का इज़हार करता। येचुदाई

कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।लेिकन एक बात की समीना को तसी थी िक

टॉमी कोई नापसंदीदगी भी नहींिदखा रहा था और उसी की तरफ़ देखतेए समीना के हाथ की पूरी उंगिलयाँ

उसके लंड के िगदिलपट गयी।ं बहोत ही गरम… िचकना-िचकना और स और लंबा और मज़बूत महसूस

हो रहा था उसेटॉमी का लंड। समीना नेउसेअपनेहाथ मलेकर आिहा-आिहा अपनी मुी के अंदर ही

उसेआगेपीछेकरना शु कर िदया। टॉमी का लंड उसकी मुी मआगेपीछेको सरक रहा था और उसके

लंड के िचकनेपन सेसमीना का हाथ भी िचकना हो रहा था। उसके लंड को महसूस करती ई वो उसका

मवाज़ना इंसानी लंड के साथ भी कर रही थी यानी अपनेशौहर के लंड के साथ और िबना िकसी चीज़ को नापे

वो आसानी सेकह सकती थी िक टॉमी का लंड उसके शौहर के लंड सेलंबा और मोटा है।

समीना के सहलानेसे… उसकी मुठ मारनेसे… टॉमी को भी शायद मज़ा आनेलगा था। वो पहलेतो उसी तरह

लेटा रहा मगर िफ़र अपनी जगह सेउठ कर खड़ा हो गया। समीना अभी भी टॉमी के करीब नीचेकापट पर ही

लेटी ई थी और अब टॉमी उसके सामनेखड़ा था। मगर अब समीना को उससेकोई भी… िकसी िक का भी

खौफ़ महसूस नहींहो रहा था। उसके अचानक उठ कर खड़ा होनेसेउसका लंड समीना के हाथ सेिनकल

गया था मगर उसेअपनी जगह सेकहींआगेना जातेए देख कर समीना नेएक बार िफ़र सेउसका लंड

पकड़ िलया और आिहा-आिहा उसेसहलानेलगी। टॉमी अगर अपनेलंड को अभी भी समीना के हाथ म

िदयेरखना चाहता था तो समीना का िदल भी उसके लंड को अपनेहाथ सेछोड़नेको नहींचाह रहा था। अब वो

नीचेकापट पर पड़ी ई टॉमी के पेट के नीचेउसके फ़र मसेखाल महो रहेए सुराख मसेिनकालतेए

लंड को देख रही थी… उसेछूरही थी और अपनेहाथ मलेकर एक बार िफ़र सेउसेआगे-पीछेकर रही थी।

टॉमी के लंड मसेिनकलनेवाला कोई लेसदार सा मवाद… साफ़ ज़ािहर हैिक… टॉमी की मनी ही थी वो…

िनकल-िनकल कर समीना के हाथ पर लग रही थी। येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर

पड़ रहेहै।मगर वो अपनी ही इस नयी दुिनया ममगन… उसेअपनेहाथ आयी ई येनयी चीज़ अी लग रही

थी। समीना को महसूस आ िक अब टॉमी का लंड पहलेकी िनत अकड़ चुका आ है… और भी स हो

चुका है! समीना का हाथ उसके लंड पर पीछेको जानेलगा… उसकी जड़ तक… और पीछेउसेकुछ और ही

चीज़ महसूस ई… कुछ मोटी सी… गोल सी… बहोत बड़ी सी! समीना अब थोड़ा और भी टॉमी के लंड की

तरफ़ सरक आयी। काफ़ी करीब पँच चुकी थी वो उसके लंड के और अब वो उसकी तरफ़ देखनेलगी। ये

टॉमी के लंड का आखरी िहा था जोिक िकसी गद की तरह मोटा और फूला आ था… मुग के अंडेके

िजतना मोटा और बड़ा। अब बहोत करीब सेटॉमी का लंड देखनेपर उसेऔर भी येअजीब लग रहा था। लंबा

सा मोटा सा हिथयार था कुेका िजस पर छोटी-छोटी रग़ही रग़थी…. ं गहरेनीलेरंग की! उन गहरी नीली रग़ों

की तादाद इतनी ादा थी उसके लंड पर िक उसके लंड का सुखरंग अब जामुनी सा हो रहा था।

अपनेहाथ मपकड़ कर टॉमी के सुखलंड को सहलातेए समीना की नज़रोंमवो तमाम िफ़चल रही थीं

जानवरोंसेचुदाई की जो उसनेपहलेदेख रखी थी।ं उसके िदमाग मघूम रहा था िक कैसेऔरतकुोंके ल

मुँह मलेकर चूसती ह… कैसेउसेअपनी ज़ुबान सेचाटती ह! पहलेजब उसनेयेसब देखा था तो उसेहैरत

होती थी मगर अब इस व हक़ीक़त मएक कुेका लंड अपनेहाथ मपकड़ कर उसेसहलातेए उसका

ज़हन कुछ बदल रहा था। अब उसेइतना अजीब नहींलग रहा था। ब उसका िदल चाह रहा था िक आज

एक बार… िसफ़ एक बार… पहली और आखरी बार… वो भी इस कुेके लंड को अपनी ज़ुबान लगा कर

चेक तो करेिक कैसा लगता हैउसका ज़ायका! और ा सच मकोई मज़ा भी आता हैया िक नही! ं यही सोचते

ए िबल ग़ैर इरादी तौर पर और ऐसेिक जैसेवो िकसी जाद के ज़ैर असर हो आिहा आिहा टॉमी क ए िबुल ग़र-इरादी तौर पर और ऐस िक जस वो िकसी जादूक ज़र असर हो… आिहा-आिहा टॉमी क

लंड की तरफ़ बढ़ रही थी… िबुल करीब! उसके होठं टॉमी के लंड के िबुल करीब पँच चुके थे। उसका

अपना िदमाग िबुल बंद हो चुका आ था। येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे

है।वो कुछ भी और नहींसोच रही थी। बस उसेटॉमी का लंड ही नज़र आ रहा था। िबना सोचेसमझे

आखरकार समीना नेअपनेहोठो ं ंके साथ टॉमी के लंड को छूिलया… िसफ़ एक लेके िलये… और फ़ौरन

ही उसका मुँह पीछेहट गया। समीना को हैरत ई िक उसेयेबुरा नहींलगा था। डरते-डरतेसमीना नेटॉमी की

तरफ़ देखा… िफ़र अपनेइदिगदएक नज़र दौड़ायी… येदेखनेके िलयेिक कोई उसेदेख तो नहींरहा। िफ़र

अपनी तसी करनेके बाद उसनेदोबारा अपनेहोठं टॉमी के लंड की तरफ़ बढ़ायेऔर एक बार िफ़र उसके

लंड को अपनेहोठो ं ंसेछुआ। अपना हाथ पीछेके िहेमलेजा कर समीना नेउसके लंड के मोटेगोल िहे

के पीछेसेटॉमी के लंड को अपनेहाथ की िगर मिलया और अपनेहोठो ं ंको जोड़ कर उसके लंड पर

लंबाई के ख िफरानेलगी। अजीब सा मज़ा आनेलगा था समीना को। वो अपनेहोठो ं ंसेजैसेउसके लंड को

सहला रही थी… चूस रही थी!

कुछ देर तक ऐसेही अपनेहोठो ं ंके साथ टॉमी के लंड को सहलानेके बाद समीना का खौफ़ और िझझक

खतम हो रही थी। उसेजैसे-जैसेयेसब अा लग रहा था… वो वैस- वैसेही खुलती जा रही थी। साथ ही उसके

होठं भी खुलेऔर उसकी ज़ुबान बाहर िनकली और उसनेअपनी ज़ुबान की नोक के साथ टॉमी के लंड को

सहलाना शु कर िदया। वो उसके लंड पर अपनी ज़ुबान आिहा-आिहा िफरानेलगी… उसकी नोक सेले

कर उसकी पीछेकी मोटी गोलाई तक। समीना अब अपनी ज़ुबान िफराती ई उसके लंड को महसूस कर रही

थी। कुछ अजीब सी चीज़ लग रही थी… नयी सी… जमाल के लंड सेमुखतलीफ़… अजीब सा मगर अा!

समीना नेअपनी ज़ुबान को टॉमी के लंड की नोक पर रखा और उसेअपनी ज़ुबान सेचाटनेलगी। समीना को

हैरत ई िक उसमसेवफ़े-वफ़े सेथोड़ा-थोड़ा पानी िनकल रहा था… येचुदाई कहानी आप एड से

कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।ही सी धार की सूरत मऔर एक बार तो जब समीना की ज़ुबान उसकी

नोक पर थी तो वो ही पानी उसकी ज़ुबान पर आ गया। समीना नेफ़ौरन अपन मुँह पीछेहटा िलया मगर ज़ुबान

पर उसका ज़ायका रह गया। तभी समीना को लगा… एहसास आ िक उसका ज़ायका कुछ इतना भी बुरा नहीं

है। समीना नेअब एक बार िफ़र अपनी ज़ुबान सेउसके लंड को चाटना शु कर िदया और िफ़र पीछेअपनी

ज़ुबान लेजा कर उसकी मोटी गद को चाटा। समीना नेएक बार िफ़र िहत करके उसके लंड की टोपी को

अपनेहोठो ं ंके बीच मिलया और उसेचूसनेलगी… आँखबंद करके… कुछ भी ना सोचतेए… मगर उसके

लंड सेिनकलनेवालेपानी को कबूल करतेए!

िफ़र टॉमी के लंड सेउसका हा-हा पानी िनकल कर समीना के मुँह के अंदर िगरनेलगा मगर इस बार

समीना नेउसके लंड को अपनेमुँह सेबाहर नहींिनकाला और उसेचूसनेलगी। उसके लंड का पानी िनकल-

िनकल कर समीना के मुँह के अंदर िगरनेलगा। कुछ अजीब सा ज़ायका लग रहा था उसे… मदके लंड से

मुखतलीफ़! गाढ़ा पानी नहींथा मदकी तरह ब पतला-पतला सा था… नमकीन सा… कसैला सा… जोिक

अब समीना के हलक़ सेनीचेउतर रहा था… उसके गलेमसेहोता आ उसके पेट के अंदर। समीना को ये

ज़रा भी बुरा नहींलग रहा था। वो अब अपनेहाथोंऔर घुटनोंके बल झुकी ई थी और टॉमी का लंड अपने

हाथ मपकड़ कर उसेअपनी ज़ुबान सेचाट रही थी और कभी उसेमुँह के अंदर लेती और चूसनेलगती। सब

कुछ भूलभाल कर समीना अब िसफ़ मज़ा लेरही थी। खुद को पूरी तरह सेअपनेकुेके साथ म कर चुकी

ई थी… जानवर और इंसान का फ़क़ खतम कर चुकी थी और उसके लंड को चूसती चली जा रही थी।ये

चुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।टॉमी नेअपनी जगह सेहरकत करतेए

अपना लंड समीना के हाथ मसेछुड़वाया और घूम कर समीना के पीछेआ गया और समीना की गोरी-गोरी

गाँड को चाटनेलगा। उसकी ज़ुबान समीना की गाँड के बीच मघुसती ई उसकी चूत तक पँच रही थी। और

जैसेही एक बार िफ़र सेटॉमी की ज़ुबान समीना की चूत सेटकरानेलगी तो समीना की चूत की आग एक बार

िफ़र सेभड़कनेलगी। टॉमी अब पूरी तरह सेमुथरक हो चुका आ था। कभी वो समीना की चूत को चाटता तो

कभी उसकी गाँड को चाटनेलगता। इधर समीना का भी बुरा हाल हो रहा था लत के मारे। वो अपनी

कोहिनयाँज़मीन पर िटका कर अपना िसर अपनेहाथोंपर रखेअपनी गाँड को और भी ऊपर के उठा कर नीचे

झुकी ई थी। टॉमी उसकी चूत को चाट रहा था और समीना मुँह सेिनकलनेवाली िससकारयोंसेपूरा कमरा

गूँज रहा था।

अचानक टॉमी नेएक छलांग लगायी और अपनी दोनोंअगली टाँगसमीना की कमर पर रख कर उसके ऊपर

चढ़ गया। उसके अगलेदोनोंपांव समीना की कमर पर थेऔर पीछेसेउसनेअपनेलंड को समीना की गाँड से

टकराना श कर िदया। समीना समझ गयी िक वो अब अपना लंड उसकी चत मदाखल करना चाहता है। व टकराना शु कर िदया। समीना समझ गयी िक वो अब अपना लड उसकी चूत म दाखल करना चाहता ह। वो

घबरा गयी। ऐसा तो उसनेनहींसोचा था। इस हद तक जाना उसके ोाम मशािमल नहींथा। वो तो बस

अपनी चूत चटवानेतक का मज़ा चाहती थी। मगर अब तो शायद बात उसके कं टोल सेिनकल रही थी। टॉमी

उसके ऊपर चढ़ कर उसको चोदनेकी तैयारी मथा। समीना घबरा गयी। उसनेजी सेउठ कर अपनी जगह

सेखड़ी होना चाहा मगर टॉमी नेअपना पूरा वज़न समीना की कमर पर डाल िदया और अपनेअगलेपैरोंकी

िगर उसके कं धोंपर और मज़बूत कर दी। और पीछेसेअपना लंड और भी तेज़ी के साथ उसकी गाँड की

दरार ममारनेलगा… उसेसमीना की चूत मदाखल करनेके िलये। समीना अब काफ़ी खौफ़ज़दा थी मगर

कुछ और भी तो अजीब हो रहा था। वो येिक जब-जब टॉमी का लंड समीना की चूत सेटकराता तो उसेअलग

ही मज़ा िमलता… उसेअलग ही दुिनया की सैर करवाता।येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम

पर पड़ रहेहै।एक तरफ़ तो समीना को अा लग रहा था। उसका िदल चाह रहा था िक वो खुद टॉमी का लंड

अपनी चूत मलेले… येसोच कर िक अगर इतना मज़ा िसफ़ लंड के बाहर सेउसकी चूत सेटकरानेसेिमल

रहा हैतो अगर येलंड चूत के अंदर चला जायेगा तो िफ़र उसेिकतना मज़ा देगा। मगर दूसरेही लेउसेकुछ

और खयाल आनेलगता… अपनी हैिसयत का… अपनेएक इंसान… एक औरत होनेका… और येिक वो तो

एक जानवर है… कुा है… तो वो कैसेएक कुेका लंड अपनी चूत के अंदर डलवा कर खुद को उससेचुदवा

सकती है। कैसेएक कुेके सामनेकुिया बन कर खड़ी हो सकती है… कैसेएक कुेको खुद को चोदनेकी

इजाज़त देसकती… कैसेएक कुेको इजाज़त देसकती हैिक वो उसेअपनी कुिया समझ कर चोद डाले!

येसोच कर उसनेएक बार िफ़र सेखुद को अपनी उस पोिज़शन से… कुिया की पोिज़शन से… खड़ा करने

का इरादा िकया… एक कोिशश की… मगर… मगर अब तो सब कुछ उसके बस सेबाहर था। वो तो अब

अपनेटॉमी की… एक कुेकी गुलामी मथी… उसके नीचे… और वो कुा अपना लंड उसकी चूत के अंदर

डालनेकी कोिशश मथा।

जैसेही टॉमी नेमहसूस िकया िक समीना एक बार िफ़र सेउसके नीचेसेिनकलनेके िलयेज़ोर लगा रही है…

उसेअपनी चूत िदयेिबना उसके नीचेसेिनकलना चाहती है… तो उसनेअपनी िगर उसके िज पर और

भी स कर दी और िफ़र अपना आखरी हरबा भी आज़मा िलया। उसनेअपना मुँह खोल कर समीना की

गदन को अपनेनोकीलेलंबे-लंबेखौफ़नाक दाँतोंके बीच मलेिलया और उसकी गदन पर अपनेदाँतोंका

दबाव बढ़ानेलगा। जैसेही समीना को अपनी गदन के गो मटॉमी के दाँत घुसतेए महसूस ए तो वो खौफ़

के मारेअपनी जगह पर साकीत हो गयी िक कहींटॉमी सच मही उसकी गदन को ना काट ले। जैसेही समीना

नेअपनी हरकत बंद की तो येएक ला टॉमी के िलयेकाफ़ी था। उसनेदोबारा सेसमीना की चूत पर हमला

शु कर िदया। उसका लंड अब समीना की चूत के सुराख सेटकरा रहा था और आखर ऐसेही एक ज़ोरदार

धे के साथ टॉमी का मोटा लंड समीना की चूत की गहराइयोंमउतर गया। और उसके साथ ही कमरेम

समीना की एक ददभरी… बहोत ही तेज़ चीखं गूँज गयी। समीना नेदोबारा सेटॉमी की िगर सेिनकलनेकी

कोिशश की मगर फ़ौरन ही उसेअपनी गदन मकील सेघुसतेए महसूस ए और वो मज़ीद नहींिहल सकी।

येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।इधर पीछेसेअब टॉमी का लंड पूरेका

पूरा समीना की चूत के अंदर जा रहा था। समीना के कं धोंको पकड़ेए वो दनादन घेमार रहा था… समीना

की चूत को चोद रहा था। उसका लंबा लंड बहोत गहरायी तक जा रहा था समीना की चूत के अंदर। समीना

िबुल बेबस हो चुकी ई थी। वो चाहतेए भी िहल नहींपा रही थी। एक बात जो समीना को अजीब लग रही

थी वो येथी के टॉमी के धे मारनेका अंदाज़ ऐसा था िक जैसेकोई मशीन चल रही ई हो। इतनी तेज़ी के

साथ टॉमी का लंड समीना की चूत के अंदर बाहर हो रहा था िक समीना को यक़ीन नहींहो रहा था। मगर उसे

अब येबात भी कबूल करनेमकोई शरम महसूस नहींहो रही थी िक उसेभी टॉमी के लंड सेचुदाई ममज़ा

आना शु हो रहा था। समीना नेअब अपनी मुज़ाहमत िबुल खतम कर दी ई थी और दोबारा सेकापट पर

अपनेहाथोंके ऊपर अपना िसर रख कर अपनी गाँड को और भी हवा मऊपर को उठाती ई अपनी गाँड को

पीछेको धकेल रही थी। समीना की आँखबंद हो रही थींऔर चूत थी िक बस पानी ही छोड़ती जा रही थी। तेज़

रार के साथ धे मारतेए टॉमी का लंड समीना की चूत मसेिनकल गया। समीना नेफ़ौरन ही अपना

हाथ पीछेअपनी रानोंके बीच मलेजा कर टॉमी का लंड अपनेहाथ मपकड़ा और उसकी नोक को दोबारा से

अपनी चूत के सुराख पर िटका िदया और अगलेही लेटॉमी का लंड एक बार िफ़र सेसमीना की चूत म

उतर चुका था… और िफ़र सेउसकी चूत की धुनाई शु हो चुकी थी!

लंड अंदर जानेके बाद सेसमीना की चूत तीन बार पानी छोड़ चुकी थी मगर टॉमी अभी तक लगा आ था।

समीना िनढाल होती जा रही थी। अचानक ही टॉमी नेएक ज़ोरदार धा मारा और िफ़र एकदम सेसाकीत हो

गया मगर इस आखरी धे के साथ ही समीना की एक बार िफ़र सेचीखं िनकल गयी थी। उसेअपनी चूत

फटती ई महसस ई जैसेकोई बहोत बड़ी चीज़ उसकी चत मिकसी नेडाल दी हो गोल सी मोटी सी फटती ई महसूस ई… जस कोई बहोत बड़ी चीज़ उसकी चूत म िकसी न डाल दी हो… गोल सी… मोटी सी!

तभी समीना को खयाल आया के शायद टॉमी नेअपनेलंड का आखरी मोटा गोल िहा भी उसकी चूत के

अंदर फ़ं सा िदया है। लेिकन अब टॉमी कोई हरकत नहींकर रहा था… बस समीना के ऊपर िबुल आराम से

खड़ा था… और समीना को अपनी चूत के अंदर टॉमी के लंड सेउसकी गरम-गरम मनी िगरतेई महसूस हो

रही थी… और उसकी मनी की गम सेसमीना की चूत नेएक बार िफ़र सेपानी छोड़ िदया और वो िसर नीचे

रखे-रखेलंबे-लंबेसाँस लेनेलगी।येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।अब

समीना को लगा िक अपना पानी िनकालनेके बाद टॉमी भी अपना लंड उसकी चूत सेिनकाल लेगा मगर काफ़ी

देर तक भी टॉमी नेअपना लंड बाहर नहींिनकाला तो समीना को परेशानी होनेलगी। उसनेखुद को हरकत दी

और उसेनीचेउतरनेको बोला मगर टॉमी अपनी जगह पर खड़ा था। अचानक टॉमी नेअपनी अगली टाँग

समीना के ऊपर सेउतारींऔर एक तरफ़ को घूम गया और साथ ही समीना की चीखं िनकल गयी।ं अब टॉमी

अपनेलंड और पीछेकी गोलाई को पूरेका पूरा समीना की चूत मघुमाता आ अपना ख मोड़ चुका था। अब

समीना की गाँड टॉमी की गाँड के साथ लगी ई थी। समीना नेखुद को आगेखीचतं ेए उसका लंड अपनी चूत

सेिनकालना चाहा मगर इस क़दर तकलीफ ई के वो वहींक गयी।

अचानक ही टॉमी नेआगेको चलना शु कर िदया। समीना का हैरत सेबुरा हाल होनेलगा… उसेिफ़ होने

लगी। कुा अब उसके कमरेसेबाहर को जा रहा था और अपनी चूत मफं सेए टॉमी के लंड के साथ समीना

भी उसके पीछे-पीछेखंचनेपर मजबूर थी। वो उेक़दमोंअपनेघुटनोंऔर हाथोंपर टॉमी के पीछे-पीछेरग

रही थी। समीना कराहतेए बोली, “टॉमी…! टॉमी…! ज़ज़ज़ ॉप! क जाओ…!”मगर टॉमी कहाँसुन रहा

था। वो तो उसेघसीटता आ लाऊँज मलेआया था और अब बीच लाऊँज मखड़ा आ हाँफ रहा था। इतनेम

दरवाज़ेपर दक ई। समीना तो खौफ़ के मारेसु हो कर रह गयी। वो येसोच-सोच कर ही मरी जा रही थी

िक अगर िकसी नेउसेइस तरह कुेके साथ देख िलया तो वो तो कभी िकसी को मुँह िदखानेके कािबल ही

नहींरहेगी। उसके मुँह सेकोई ल नहींिनकल रहा था। उसनेएक बार िफ़र सेकोिशश की िक टॉमी का

लंड उसकी चूत सेबाहर िनकल आयेमगर नही! ं बाहर सेखानसामा की आवाज़ आयी, “बीबी जी…! दरवाज़ा

खोल…! रात के िलयेखाना बनानेका व हो गया है…!”येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम

पर पड़ रहेहै।समीना खौफ़ सेभरी ई आवाज़ मबोली, “अभी थोड़ी देर के बाद आना… अभी नही! ं अभी म

मसफ़ ँ!”खानसामा “जी मालिकन” कह कर वापस चला गया। अब उसेा पता था िक उसकी मालिकन

अंदर िकस काम ममसफ़ है। उसेा मालूम था िक अंदर उसकी मालिकन अपनेकुेसेचुद रही है।

उसके जानेके बाद समीना नेकुछ सुकून का साँस िलया।कोई पंह िमनट के बाद टॉमी का लंड उसकी चूत

सेबाहर िनकला। उसनेफ़ौरन ही समीना की चूत को चाटना शु कर िदया। वो अपनी मनी और समीना की

चूत के पानी को चाट कर साफ़ करनेलगा और समीना नीचेिसर झुकायेएक कुिया की तरह उसके सामने

झुकी रही। और िफ़र उसनेकरवट ली और कापट पर ही सीधी हो कर लेट गयी… टॉमी की तरफ़ देखती

ई… हैरानी और शरम से… और िफ़र अचानक ही उसकी ज़ोरदार हंसी छूट गयी। वो कहकहेलगा कर ज़ोर

ज़ोर सेहंसनेलगी… “हाहाहाहा… हाहाहाहा!”

“नॉट बैड… एइकचूअली इट वाज़ वंडरफुल… फैैक!” समीना के मुँह सेहंसी के बाद यही अफ़ाज़

िनकलेऔर िफ़र वो अपनी जगह सेउठी और टॉमी के िसर को सहला कर अपनेकमरेकी तरफ़ चल पड़ी

दोबारा सेेश होनेके िलये।शाम को जमाल आया तो थोड़ी देर के िलयेवो सैर करनेके िलयेिनकल गया…

टॉमी को भी साथ लेकर। समीना भी रोज़ उनके साथ जाती थी मगर आज उसका िदल नहींिकया ोिकं वो

कुछ कश-म-कश मथी िक येसब ा आ है। येवो जानती थी के उसेमज़ा आया है… अा लगा है… मगर

येबात उसके िदल मचुभ रही थी िक येठीक नहींआ। उनके जानेके बाद वो लाऊँज मआयी और रेडवाईन पीनेलगी। वैसेतो वो और जमाल अर शाम को खानेसेपहलेसाथ मवाईन या कोई और शराब पीते

थेलेिकन आज समीना नेजमाल का इंतज़ार नहींिकया ोिकं आज उसेइसकी काफी ज़रत महसूस हो

रही थी। वाईन पीतेए उसकी नज़र एक कोनेमलगेए टॉमी के िबर की तरफ़ गयी। कुछ देर तक उसे

देखती रही… वाईन पीती रही… और िफ़र उठ कर टॉमी के िबर के पास आ गयी। चार फुट लंबाई का इ

सेभरा आ एक गा था… बहोत ही नरम सा… जो िक टॉमी के िबर के िलयेइेमाल िकया जाता था।

समीना उसके िबर के करीब बैठ गयी और िफ़र अपना हाथ आिहा-आिहा टॉमी के िबर पर फेरने

लगी… उसेसहलानेलगी। येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।उसेअा लग

रहा था। वो अपनी जगह सेथोड़ा सा िहली और िफ़र टॉमी के िबर पर बैठ गयी। उसेटॉमी के िबर पर

बैठना अा लग रहा था। धीरे-धीरेउस पर हाथ फेरती ई वो टॉमी के िबर पर लेट गयी। समीना अपना

चेहरा उस नरम-नरम िबर पर फेरनेलगी… अपनी नाक उस पर रगड़नेलगी। िबर मसेअजीब सी बूआ

रही थी जानवर के िज की। मगर समीना को बरी नहींब अी लग रही थी। वो बस अपना चेहरा उस रही थी… जानवर क िज की। मगर समीना को बुरी नही ब अी लग रही थी। वो बस अपना चहरा उस

पर रगड़ती जा रही थी। उसका िदल चाह रहा था िक वो अपना नंगा िज उस पर सहलाये। समीना नेिबना

कुछ सोचेअपनी शटको नीचेसेपकड़ कर ऊपर उठाया और एक ही लेमअपनेिज सेअलग कर िदया

और िफ़र बाकी कपड़ेभी उतार के नंगी हो कर कुेके िबर पर लेट गयी। वो अपना नंगा गोरा-गोरा

िचकना-िचकना िज उस नरम-नरम िबर पर रगड़नेलगी। नरम-नरम रेशमी िबर के नरम-नरम रेशमी

िज के साथ रगड़नेसेउसेबहोत अा लग रहा था। वो अब िफ़र सेअपनेगालोंको इस िबर सेरगड़ रही

थी… आँखबंद िकयेए… जैसेवो इस कुेको अपना सब कुछ तीम कर चुकी हो… मान चुकी हो। कुछ

देर मबेल ई तो समीना जैसेहोश मवापस आयी। जी सेउठ कर कपड़ेपहनेऔर ऊँची हील की सडल

फशपर टकटकाती और मुुराती ई दरवाज़ा खोलनेके िलयेचली गयी।

िफर दोनोंबैठ कर खाना खानेलगे। टॉमी भी ह मामूल उनके साथ ही था। खानेके बाद दोनोंलाऊँज मही

बैठेटीवी देख रहेथेऔर टॉमी भी समीना के पैरोंमही बैठा आ था। जमाल खान उससेदूर दूसरी तरफ़ था।

समीना अपना सडल वाला पैर टॉमी के िज पर फेर रही थी… कभी उसके िसर पर अपना सडल का िचकना

तलवा िफराती और कभी उसके पेट को अपनेपैर सेसहलानेलगती। आिहा-आिहा उसका पैर खुद-बखुद ही टॉमी के पेट के नीचेकी तरफ़ जानेलगा। जमाल खान अगर उसकी तरफ़ देखता भी तो उसेपता नहीं

चलता िक वो ा कर रही है। समीना नेअपना पांव टॉमी के लंड वालेिहेकी तरफ़ बढ़ाना शु कर िदया.

और िफ़र अपनेसडल के अगलेिसरेऔर पैरोंकी उंगिलयोंसेउसके लंड को सहलाना शु कर िदया। टॉमी

नेफ़ौरन अपना िसर ऊपर उठाया और समीना की तरफ़ देखनेलगा। समीना के होठो ं ंपर खेलनेवाली

मुुराहट को देख कर उसनेदोबारा सेअपना िसर नीचेरख िदया। टॉमी का लंड जो िक अभी तक उसकी

खाल के अंदर ही था… आिहा-आिहा उसकी खाल सेबाहर िनकलनेलगा। येचुदाई कहानी आप एड

से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।कुछ ही देर मउसके सुख-सुखलंड की अगली नोक और अगला आधा

िहा उसकी खाल सेबाहर थेऔर उसेदेखतेही समीना खल उठी। इस लंड को देखतेए उसेयाद आने

लगा के कैसेइस लंड नेउसकी चूत के अंदर दाखल हो कर उसेबेइंतेहा मज़ा िदया था… कैसेटॉमी अपने

लंड को उसकी नाज़ुक सी चूत के अंदर-बाहर कर रहा था… कैसेवो दनादन धे मार रहा था। समीना कभी

टॉमी के लंड को देखती और कभी उसके मुँह को। समीना को टॉमी पर कोई गुा नहींथा ब जो मज़ा

और जो लत टॉमी नेउसेदी थी, उसके बाद तो वो उसकी िदवानी हो गयी थी। टॉमी के िलयेउसकी

मोहत और चाहत बढ़ गयी थी और उसकी मोहत का अंदाज़ भी बदल गया था। समीना के सडल और पैर

िक उंगिलयोंका अगला िसरा टॉमी के िचकने-िचकनेसुखरंग के लंड को सहला रहेथे। समीना नेउसके लंड

को अपनेसडल और पैर की उंगिलयोंके बीच मिलया और अपनेपैर को उसके लंड पर ऊपर सेनीचेको

सहलानेलगी… जैसेिक वो टॉमी के लंड िक मुठ मार रही हो। सिमना!

टॉमी नेअपना िसर मोड़ कर अपनेलंड िक तरफ़ देखा और िफ़र अपना मुँह समीना के दूसरेपैर पर रख िदया

जो उसके करीब था और अपनी ज़ुबान सेसमीना के पांव और सडल को चाटनेलगा। समीना को भी अा लग

रहा था। टॉमी नेअपना मुँह खोल कर समीना के गोरे-गोरेनाज़ुक पैर को सडल के साथ अपनेदाँतोंके अंदर

िलया और उसेआिहा-आिहा दबानेलगा… काटनेलगा। उसके नोकीलेदाँत समीना के पैर मऊपर और

सडल के तलवेमधंस रहेथेऔर समीना को हा-हा लत अमेज़ ददहोनेलगा था। समीना के चेहरेपर

लत के सायेलहरानेलगेथे। एक बार जब टॉमी नेथोड़ा ज़ोर सेउसके पैर को अपनेदाँतोंसेदबाया तो

समीना के मुँह सेिससकारी िनकल गयी। उसेसुन कर जमाल खान नेचौकं कर समीना की तरफ़ देखा तो उसे

समीना का पैर टॉमी के मुँह के अंदर नज़र आया तो वो खौफ़ज़दा हो गया।जमाल बोला, “समीना…! समीना

…! येा कर रहा हैटॉमी…! हटाओ उसे!”समीना मुुरायी, “डो वरी डािलग…! कुछ नहींकहता टॉमी!

येतो बस लाड़ कर रहा है… ज रलै िडयर!”जमाल खान भी देखनेलगा िक टॉमी बस उसके पैर को

अपनेदाँतोंके अंदर लेता हैऔर िफ़र अपनेमुँह सेउसका पैर िनकाल कर उसेचाटनेलगता है… जैसेिक वो

उसके पैर सेखेल रहा हो। जमाल को भी तसी हो गयी… उसकी िफ़ खतम हो गयी। वो मुुराया, “अरे

यार येतो तुारेपांव सेखेल रहा है!” समीना भी मुुरा दी और जमाल दोबारा सेटीवी देखनेलगा।येचुदाई

कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।इधर समीना का पैर टॉमी के लंड सेपीछेको जाने

लगा… उसकी रान को सहलातेए… उसकी दु के नीचे। उसकी गाँड के सुराख के नीचेटॉमी के टेलटके

ए नज़र आये… काले-कालेसे… गोल-गोल से! समीना नेएक नज़र जमाल खान की तरफ़ देखा और िफ़र

अपनेसडल और पैर के अंगूठेसेउसके टोंको सहलानेलगी। अपनेशौहर जमाल के मोटे-मोटेऔर बड़े-बड़े

टेतो वो सहला ही चुकी थी कईं बार मगर उन छोटेसाइज़ के बॉ के साथ खेलना भी समीना को अा लग

रहा था। वो अपनेपैर के साथ उनसेखेल रही थी। साथ-साथ ही वो सोचनेलगी के उन टोंके अंदर बननेवाली

मनी का ज़ायका भी वो लेचकी ई हैऔर उसेयेमाननेमकोई आर या शरम नहींथी िक उसेटॉमी अपन मनी का ज़ायका भी वो ल चुकी ई ह और उस य मानन म कोई आर या शरम नही थी िक उस टॉमी… अपन

कुेके लंड िक मनी अपनेमुँह मबेहद अी लगी थी… उसका ज़ायका उसेबहोत पसंद आया था।

इतनेमजमाल खान के मोबाइल पर कोई कॉल आयी। वो उसेअटड करके सुनता आ लाऊँज सेबाहर

िनकल गया… बाहर लॉन म! जमाल के जातेही टॉमी नेअपनी जगह सेउठ कर छलांग लगायी और सोफ़े पर

चढ़ गया और समीना के चेहरेको चाटनेलगा। समीना उसकी इस हरकत पर हंसनेलगी। उसेइस बात की

खुशी भी ई थी और तसी भी िक टॉमी नेउसके शौहर के सामनेउसके साथ कुछ भी गलत करनेकी

कोिशश नहींकी थी। टॉमी उसके गालोंऔर होठो ं ंको चाटनेलगा। वो बार-बार अपनी ज़ुबान ऊपर-नीचेको

लाता आ उसके चेहरेको चाटता और उसके होठो ं ंको चाटता। समीना नेभी अपनी ज़ुबान बाहर िनकाली

और अपनी ज़ुबान को टॉमी की ज़ुबान सेटकरानेलगी। समीना की ज़ुबान टॉमी की ज़ुबान सेटकरानेलगी…

एक खूबसूरत औरत की ज़ुबान एक कुेकी ज़ुबान को चाट रही थी। दोनोंही एक दूसरेकी ज़ुबानोंको चाट

रहेथे। कुेके मुँह सेउसका थूक समीना के मुँह के अंदर जा रहा था मगर समीना उसका कुछ भी बुरा समझे

िबना अपनेअंदर िनगलती जा रही थी और टॉमी की ज़ुबान को चाटती जा रही थी… जैसेवो कोई जानवर नहीं

ब उसका महबूब हो और वो उसकी महबूबा… जैसेवो उसका बॉय ड हो और वो उसकी गलड…

जैसेवो उसका आिशक़ हो और वो उसकी माशूक़ा… जैसेवो एक कुा हैतो… तो वो उसकी कुिया!

दोनो… ं ब िसफ़ समीना… सब कुछ भूलभाल कर टॉमी को ार कर रही थी और िफ़र समीना नेटॉमी के

िज पर हाथ फेरतेए उसेखुद सेपीछेिकया और सोफ़े सेउतरनेका इशारा िकया। टॉमी खामोशी सेसोफ़े

पर सेउतरा और कमरेके एक कोनेममौजूद अपनेछोटेसेिबर पर चला गया… सोनेके िलये!येचुदाई

कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।रात को जमाल खान समीना के पास आया और इस

रात उसनेभी समीना को चोदा। मगर समीना महसूस कर रही थी िक उसेजो मज़ा आज टॉमी के लंड से

चुदवानेमआया था वो उसेआज जमाल के साथ नहींआ रहा था। वो अपनेिबर पर लेटी जमाल खान का

लंड अपनी चूत मलेनेके बावजूद भी आँखबंद िकयेटॉमी का… एक कुेका तसुर ही कर रही थी िक वो

उसेचोद रहा हैऔर वो उस कुेके लंड के मज़ेलेरही है। टॉमी को ही याद करतेए समीना की चूत नेपानी

छोड़ा और िफ़र काफ़ी देर के बाद दोनोंसो गये।समीना अगलेिदन एक बार िफ़र टॉमी के लंड का मज़ा लेने

का सोचती ई नीदं की वािदयोंमचली गयी। उसेतसी थी िक अब उसेअपनी तनहाइयोंका साथी िमल

चुका है… उसकी तनहाइयोंको रंगीन करनेके िलये। उसका िदल अभी भी यही चाह रहा था िक वो जा कर

कुेके साथ उसके नरम नरम िबर पर लेट जाये… उसके साथ! मगर िफ़र खुद पर जबर करके सो ही

गयी।

सुबह उसकी आँख फोन की बैल की आवाज़ सेखुली। देखा तो ज़हरा का फोन था अमेरका से। पहलेभी

ज़हरा उसेफोन करती रहती थी. .. . उसका हाल-अहवाल पूछनेके िलये… और टॉमी के बारेमजननेके

िलये। मगर आज ज़हरा सेबात करतेए समीना का िदल ज़ोर-ज़ोर सेधड़क रहा था।

ज़हरा: “हैलो. .. कैसी हो समीना…?”

समीना: “मठीकठाक ँ… और आप…???”

ज़हरा: “हम भी ठीक ह… और वो अपनेटॉमी का सुनाओ… वो कैसा है?”

समीना: “हाँवो भी ठीक है… मगर उसने…” समीना कुछ कहतेकहतेक गयी।

ज़हरा की हंसी की आवाज़ सुनायी दी, “ा आ… ा िकया हैटॉमी ने?”

समीना घबरा कर बोली, “क…क…कुछ नही… ं कुछ भी तो नही…” ं

ज़हरा की िफ़र आवाज़ आयी, “कहींइस टॉमी नेतुम को चोद तो नहींिदया… हाहाहाहा!”

समीना बुरी तरह सेघबरा गयी ई थी, “नही… ं नही… ं वो भला ोंमुझे…”

ज़हरा हंसी, “हाहाहाहा… वो मइसिलयेकह रही थी िक… बड़ा ही कमीना हैयेकुा… येतो यहाँमुझेभी



चोदता रहा ह… इसिलय म तो कह रही थी…”

समीना के मुँह सेफ़ौरन ही िनकला, “ा…? ा आप को भी…???”

ज़हरा हंसी, “हाँमुझेतो रोज़ ही चोदता था ये… चूत और गाँड दोनोंमारता था मेरी… और अब उसका भाई

अकेला… वैसेएक बात हैिक मज़ा खूब आता हैउससेचुदवानेम… ोंहैना ऐसी बात?”

समीना: “हाँ… नही… ं मेरा मतलब हैिक मुझेा पता…!” समीना घबरा रही थी।

ज़हरा: “अरेयार मुझसेछुपानेका कोई फ़ायदा नहींहै… बस करती रहो उसके साथ मज़ेऔर इंजॉय करो

खूब!”

समीना: “लेिकन….”

ज़हरा: “अरेलेिकन-वेिकन कुछ नही… ं बस मज़ेलो… कुछ भी नहींहोगा… िकसी को कुछ पता नहीं

चलेगा…!!”

समीना: “ओके… बाय… िफ़र बात करगे!”

समीना नेफोन बंद कर िदया। उसका िदल ज़ोर-ज़ोर सेधड़क रहा था मगर ज़हरा सेबातकरके और येजान

कर उसेकाफ़ी सुकून िमला था िक वो अकेली नहींहै… िकसी और नेभी टॉमी के साथ चुदाई की ई है…

और वो भी ज़हरा ने… जो इतनेसालोंसेअमेरका मजर रहती हैलेिकन हैतो उसी की तरह पािकानी

ही… येजान कर उसके चेहरेपर सुकून वाली मुुराहट फैल गयी।अब समीना का अंदाज़ ही कुछ अलग था।

वो कुछ अलग ही सोच मथी। अपनेशौहर जमाल के साथ नाा करतेए भी वो पास ही ज़मीन पर बैठेए

टॉमी को देख-देख कर मुुरा रही थी। जमाल अपनेनाेममगन था और साथ-साथ अपनी हसीन-ओजमील बीवी सेबातभी कर रहा था। उस बेचारेको ा पता था िक उसकी इतनी खूबसूरत बीवी एक कुेसे

चुदवा रही है! कुछ ही देर मजमाल खान नेनाा िकया और अपनेदर चला गया। जमाल के जातेही

समीना नेघर का अंदर का दरवाज़ा लॉक िकया। िफर लाऊँज मअलमारी मसेशराब… येचुदाई कहानी आप

एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।वोडका की बोतल और एक िगलास लेकर अपनेकमरेमआ

गयी। इस व भी टॉमी दरवाजेके करीब ही खड़ा था… अंदर आनेके िलये। मगर समीना नेमुुरा कर उसे

देखतेए दरवाज़ा बंद कर िलया और कमरेका भी अंदर सेलैच लगा िलया तािक टॉमी अंदर ना सके। शायद

आज वो अपनेइस महबूब को कुछ तड़पाना चाहती थी। अंदर कमरेमआकर समीना नेअपनेिज पर पहना

आ नाइट गाऊन उतार कर बेड पर फक िदया… सडल भी उतार िदयेऔर नंगी… िबुल नंगी हालत म

शराब की बोतल और िगलास लेकर बाथम मघुस गयी। आलीशान बाथम मबड़ा सा बाथ-टब था। समीना

नेउसमपानी भरा और साबुन डाल कर झाग बना के बबल-बाथ तैयार िकया और िफर उसमबैठ कर िगलास

मशराब भर कर के पीतेए नहानेलगी। वैसेतो इतनी सुबह वो शराब नहींपीती थी लेिकन आज वो नशेम

मदहोश होकर.. म होकर… अपनेटॉमी… अपनेकुे… अपनेमहबूब… के साथ चुदाई का पूरा मज़ा लेना

चाहती थी।

करीब आधेघंटेतक वो नहाती रही और इस दौरान उसनेकाफी शराब.. करीब आधी बोतल पी ली थी। जब वो

बाथ-टब सेबाहर िनकली तो नशेकी हालत मथी जो उसेबेहद खुशनुमा लग रहा था… काफी हा महसूस

कर रही थी…। तौिलयेसेिज सुखा कर वो बाथम सेबाहर आयी और ह-मामूल सबसेपहलेपैरोंम

ऊँची पिसल हील के सडल पहने। िफर वैसेही िबुल नंगी आईनेके सामनेबैठ गयी और नशेकी मी म

हा-हा गुनगुनातेए मेक-अप करनेलगी… खुद को बनानेसंवारनेलगी। उसके िदल की हालत भी

अजीब सी हो रही थी येसोच-सोच कर िक वो… उस जैसी खूबसूरत और जवान औरत… एक कुेको अपना

महबूब मानती ई उसके िलयेतैयार हो रही है… उससेचुदनेके िलये… उसको सुकून पँचानेके िलये… और

उसके िज सेअपनेिज को सुकून देनेके िलये! मगर येसब कुछ सोचतेए भी उसेबुरा नहींलग रहा था

ब एक मुुराहट थी जो उसके होठो ं ंपर खेल रही थी। मेक-अप करके… अपनेहोठो ं ंपर िलपक लगा

कर तैयार ई और खुद को आईनेमदेखनेलग। अपनी तैयारी और अपनी खूबसूरती को देख कर वो खुद भी

शरमा गयी… और िफर शोखी सेमुुरातेए अपनेिनचलेहोठं दाँतोंमदबा िलये।लेखक: िपंकबेबीयेचुदाई

कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।अब मरहला था कपड़ोंका। वो सोचनेलगी िक ा  कहानी आप एड स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रह ह।अब मरहला था कपड़ो का। वो सोचन लगी िक ा

पहने। सोचते-सोचतेउसेखयाल आया िक ोंना आज वो भी टॉमी के जैसेही रहे… खुद को टॉमी के सामने

उसी के जैसी ही बन कर पेश करे! येसोचतेही उसनेकुछ भी पहननेका इरादा तक़ कर िदया… िसफ़ पैरोंम

ह-ए-आदत ऊँची पेल हील के सडल जर पहनेए थे। समीना अपनेनंगेवजूद को आईनेमदेखने

लगी। उसके खूबसूरत गोरे-गोरेमेतनेए थे… उनके आगेगुलाबी िनल अकड़ेए क़यामत ढा रहेथे…

चूत गोरी-गोरी… गुलाबी चूत… बालोंसेिबुल पाक… हौलेहौलेरस रही थी… चुदनेके िलयेपूरी तरह से

तैयार थी… एक कुेके लंड को अपनेअंदर लेनेके िलयेिबुल तैयार। खुद को आईनेमदेखतेए उसे

कुछ खयाल आया और उसके साथ ही उसके होठो ं ंपर एक ही सी मुुराहट फ़ैल गयी। वो आईनेके

सामनेसेउठी और एक तरफ़ बनी ई अलमारी की तरफ़ बढ़ी। उसके सबसेिनचलेिहेमसेकुछ िनकाल

कर वापस आईनेके सामनेआ गयी और उसेअपनी गोरी-गोरी गदन मपहननेलगी। उसके क बंद िकये

और खुद को दोबारा आईनेमदेखनेलगी। टॉमी की गदन का पा जो उसके गलेसेउतार िदया गया आ

था… अब समीना के गलेके िगदिलपटा आ था। समीना नेउसेअपनी गदन के िगदटाइट करके बाँध िलया

आ था और अब खुद को इस पेके साथ देख कर उसके चेहरेपर शरम और शरारत के िमलेजुलेलालगुलाबी रंग फैल गये। पूरी की पूरी कुिया लग रही हो अब तो तुम! समीना खुद सेबोली और हंसनेलगी। “हाँ

तो जब एक कुेसेार कँगी… इस सेचुदवाऊँगी… तो कुिया तो बनना ही पड़ेगा ना!” समीना नेअपने

सवाल का खुद ही जवाब िदया और िफ़र नशेमलहराती ई कमरेसेबाहर जानेके िलयेबढ़ गयी। कुछ देर

पहलेआधी बोतल शराब पी चुकी ई थी तो ज़ािहर हैकाफी नशेमथी और चलतेए क़दम भी डगमगा सेरहे

थेिजससेऊँची पेल हील के सडल मउसकी चाल वाक़य मनशीली हो गयी थी।

दरवाज़ा खोल कर समीना बाहर िनकली और टीवी लाऊँज मइधर-उधर देखा… टॉमी को! टॉमी लाऊँज के

कोनेमरखेए अपनेिबर पर बैठा आ था। समीना नेमुुरा कर उसेदेखा। टॉमी नेभी बड़ी होिशयारी

का मुज़ािहरा करतेए उसेदेख िलया था। अब अपनी जगह पर बैठेए उसकी नज़र समीना पर ही थी।

समीना नेएक अजीब हरकत की… वो नीचेझुकी और कापट पर अपनेघुटनोंऔर हाथोंके बल हो गयी। िफर

अपनेघुटनोंऔर हाथोंके बल ही चलती ई… नंगी ही चलती ई… टॉमी के िबर की तरफ़ बढ़नेलगी…

टॉमी के… एक कुेके िबर की ज़ीनत बननेके िलये। समीना नेफ़ैसला कर िलया था िक अगर टॉमी एक

जानवर हो कर उसेइस क़दर मज़ा देरहा हैतो वो भी उसी के जैसी हो कर एक जानवर की तरह… एक

कुिया की तरह… खुद को उसेपेश करेगी… अपना िज उसेपेश करेगी और उसेपूरा-पूरा मज़ा देगी। इसी

िलयेवो गलेमपा डाले… िबुल नंगी हालत मघुटनोंके बल चलती ई टॉमी के करीब जा रही थी।येचुदाई

कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।टॉमी के पास जाकर वो टॉमी को ार भरी नज़रों

सेदेखनेलगी। वो भी अपनी जगह पर ही लेटा आ अपनी मालिकन को देख रहा था। समीना आगेबढ़ कर

उसके गेपर चढ़ गयी. और आगेझुक कर टॉमी के चेहरेके साथ अपना चेहरा रगड़नेलगी। उसनेटॉमी के

मुँह को चूमना शु कर िदया। िफ़र अपनी ज़ुबान बाहर िनकाली और उसके कालेहोठो ं ंवालेिहेको चाटने

लगी। टॉमी नेभी अपनी ज़ुबान बाहर िनकाली और समीना के मुँह को चाटनेलगा। समीना को अपनायत का

एहसास आ। उसनेभी फ़ौरन अपनी ज़ुबान सेटॉमी की ज़ुबान को चाटना शु कर िदया। दोनोंकी ज़ुबान…

समीना और टॉमी की ज़ुबान… एक इंसान और एक जानवर की ज़ुबान… एक खूबसूरत हसीन औरत और एक

कुेकी ज़ुबान… एक दूसरेसेटकरा रही थी… ं एक दूसरेको चाट रही थी।ं दोनोंका थूक आपस मिमल रहा

था। समीना नेदोनोंहाथोंमउसका मुँह पकड़ा आ था और अपनी ज़ुबान को उसकी ज़ुबान सेटकरा रही

थी… उसेचाट रही थी। िफ़र समीना नेआगेबढ़ कर अपना िज टॉमी के िज सेलगा िदया। समीना का

गोरा-गोरा िचकना नंगा िज टॉमी की खाल के नरम-नरम फ़र सेरगड़नेलगा। समीना को भी मज़ा आ रहा

था… उसेअा लग रहा था। वो अपनेिज को टॉमी के िज के साथ िघसती ई मज़ा लेनेलगी। साथ-साथ

ही अब उसनेटॉमी के िज को… उसकी खाल को चूमना शु कर िदया था। कभी उसकी कमर के ऊपर से

और कभी पेट पर सेतो कभी उसकी गदन पर सेअपनेहोठो ं ंको उस जानवर के िज सेरगड़नेमसमीना

को मज़ा आ रहा था। उसका हाथ भी टॉमी के िज को सहला रहा था।

समीना टॉमी को अपनी जगह सेखड़ा करना चाह रही थी तािक वो उसेार करे… उसेचोदे! मगर टॉमी अभी

भी अपनी जगह पर ही बैठा आ था। समीना अपनी जगह सेउठी और उसके गेपर उसके आगेपीछेिफरने

लगी। कभी उसके पीछेजाती तो कभी उसके सामनेआ जाती… िफ़र अपनी खूबसूरत गाँड को उसके सामने

लहरानेलगती। मगर टॉमी अभी भी सुी के साथ उसके सामनेलेटा आ था। कभी-कभी जब समीना अपनी

गाँड को टॉमी के मुँह के िबुल साथ लगाती तो वो एक दो बार उसकी गाँड को चाट लेता अपनी ज़ुबान से

और िफ़र सेनीचेअपनेसामनेपड़ेए िबट खानेलगता। उसके सामनेकाफ़ी सारेिबट पड़ेए थेजो

थोड़ी देर पहलेसमीना उसके िलयेडाल के गयी थी। कछ उनमसेटॉमी नेखा िलयेए थेऔर कछ आध थोड़ी दर पहल समीना उसक िलय डाल क गयी थी। कुछ उनम स टॉमी न खा िलय ए थ और कुछ आध

कुतरेए थेऔर कुछ मुँह सेिनकालेए थे। करीब ही एक खुलेसेबतन मटॉमी के िलयेपानी पड़ा आ था।

कुछ सोच कर समीना मुुरायी और िफ़र नीचेको झुक कर टॉमी के आगेसेिबट अपनेमुँह सेउठा कर

खानेलगी। टॉमी नेउसेदेखा तो एक िबट अपनेमुँह मडाला और िफ़र उसेबाहर िनकाल िदया। समीना ने

फ़ौरन ही उसेअपनेहोठो ं ंसेअपनेमुँह मिलया और टॉमी की तरफ़ देखती ई खानेलगी… चबानेलगी। उसे

बड़ा ही अजीब लग रहा था िक वो एक कुेके मुँह सेिनकली ई कोई चीज़ खुद खा रही है। आज सेचंद िदन

पहलेतक तो वो ऐसा तसुर भी नहींकर सकती थी।येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर

पड़ रहेहै।आखर कुछ देर के बाद टॉमी अपनी जगह सेउठा और गेसेनीचेपड़ेए बड़ेसेबतन मडाले

ए पानी ममुँह मारनेलगा। अपनी ज़ुबान अंदर डाल कर िलप-िलप करता आ पानी पीनेलगा। समीना भी

अपनेघुटनोंके बल फ़ौरन आगेबढ़ी और खुद भी अपना मुँह नीचेकर के उसी बतन मडाल िदया और अपनी

ज़ुबान िनकाल कर कुेके बतन मसेही पानी पीनेलगी। उसेखुद पेहंसी भी आ रही थी िक वो एक इंसान हो

कर जानवर की तरह बतन मसेपानी पी रही हैऔर मालिकन होतेए भी अपनेकुेके बतन मसेउसका

झठा ू पानी पी रही है। कुेकी ज़ुबान सेपानी मतो कुछ फ़क़ नहींआया ना और जब हम अपनी झठी ू चीज़

उसेदेसकतेहतो हमउसका झठा ू खानेमऔर पीनेमा हज़है… और िफ़र एक दूसरेका झठा ू खानेसे

ही तो आपस का ार बढ़ता हैना। समीना मुुरायी। उसेअपनी इन ही बातोंऔर हरकतोंके साथ अपनी

चूत भी गीली होती ई महसूस हो रही थी। समीना नेअपनी एक उंगली नीचेलेजा कर अपनी चूत के अंदर

डाली और अपनी चूत के अंदर बाहर िकया तो उसेअपनी चूत का गाढ़ा पानी अपनी उंगली पर महसूस आ।

समीना नेअपनी उंगली वापस ला कर अपनेमुँह मडाल कर अपनी ही चूत का पानी चाट िलया। अब समीना

दोबारा सेघूम कर टॉमी के पीछेआयी और उसकी कमर को चूमनेलगी। उसकी दु के नीचेउसके गोलगोल कालेटेलटक रहेथे। समीना नेअपनेहाथोंसेउनको सहलाना शु कर िदया। टॉमी नेपानी को छोड़

कर मुड़ कर समीना की तरफ़ देखा और िफ़र सेअपना मुँह आगेकर िलया। सिमना!

समीना नेटॉमी की कमर को चूमा और िफ़र अपनेहोठं टॉमी के काले-कालेटोंपर रख कर उनको चूमने

लगी। समीना नेअपनी गुलाबी ज़ुबान बाहर िनकाली और उन काली-काली गदोंको अपनी ज़ुबान सेछेड़नेऔर

उनको चाटनेलगी। उसनेअपनेमुँह सेउन पर थूक िगराया और अपनी ज़ुबान उन पर मलनेलगी। िफ़र वो

उनको बारी-बारी मुँह मलेकर चूसनेलगी। बड़ा ही अा लग रहा था उसे… उनको चाटना… उनको चूसना!

अलग ही मज़ा आ रहा था समीना को। एक खूबसूरत हसीन औरत एक कुेके पीछेझुकी ई अपनेगुलाबी-

गुलाबी होठो ं ंके साथ उस कुेके काले-कालेटोंको अपनेमुँह मलेकर चूस रही थी और अपनेमुँह के अंदर

ही रखतेए उन पर ज़ुबान भी फेर रही थी…जैसेपता नहींिकतनी मज़ेकी चीज़ उसके मुँह के अंदर हो।

समीना की नज़र टॉमी के लंड पर पड़ी जो अब आिहा-आिहा उसकी खाल सेबाहर िनकल रहा था।

समीना नेउसकी गोिलयोंको चूसतेऔर चाटतेए अपना हाथ आगेबढ़ा कर उसके लंड को पकड़ िलया और

उसेअपनी मुी मलेकर सहलनेलगी… मुी मलेआगे-पीछेकरनेलगी। अब टॉमी भी मी मआ रहा था।

समीना नेअब आगेको जा कर टॉमी का लंड अपनेमुँह मिलया और उसेचूसनेलगी… अपनी ज़ुबान सेचाटने

लगी… मुँह मलेकर अंदर-बाहर करनेलगी… मज़ेलेती ई… इंजॉय करती ई!येचुदाई कहानी आप एड

से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।टॉमी भी अब पूरी मी मआ चुका आ था। वो भी अपना लंड समीना

के मुँह सेचुसवा कर समीना के पीछेलपका और उसकी गाँड को चाटनेलगा। समीना नेअपना िसर नीचेको

िकया और अपनी गाँड को ऊपर को उठातेए अपनी चूत को टॉमी के सामनेकर िदया। टॉमी नेभी फ़ौरन

उसकी चूत को चाटना शु कर िदया। उसकी ज़ुबान समीना की चूत के अंदर तक जा रही थी… नीचेसेऊपर

तक चाट रही थी… और समीना आँखबंद िकयेलत की वािदयोंमदौड़ रही थी। अचानक ही टॉमी ने

समीना पर हमला िकया और उसके ऊपर चढ़ कर घेमारनेलगा। उसका अकड़ा आ लंड समीना की गाँड

और उसकी रानोंसेरगड़ रहा था… िघस रहा था और समीना अब हंस रही थी टॉमी की हालत पे। थोड़ी देर

पहलेतक वो जो आराम सेलेटा आ था… अब अपना लंड उसकी चूत मडालनेके िलयेबेचैन हो रहा था और

समीना भी अपनेकुेके िबर पर उससेचुदवानेके िलयेपूरी तरह सेराज़ी और तैयार थी। उसनेअपना हाथ

पीछेलेजाकर अपनी रानोंके बीच मसेटॉमी का लंड अपनेहाथ मपकड़ा और उसेअपनी चूत के सुराख पर

िटका िदया। वो खुद भी तो अब ादा देर बदा नहींकर सकती थी। जैसेही उसनेटॉमी का लंड अपनी चूत

के सुराख पर रखा तो टॉमी नेएक ही धे के साथ ही अपना लंड समीना की चूत मदाखल कर िदया और

एक ज़ोरदार िससकारी के साथ समीना तड़प कर रह गयी। उसनेखुद को आगेको िगरनेसेसंभाला और िफ़र

अपनी गाँड को ऊपर को उठाती ई अपनी चूत को पीछेको टॉमी के लंड की तरफ़ धकेलनेलगी। टॉमी का

लंड भी समीना की चूत मअंदर-बाहर होता आ उसेचोद रहा था। कुेनेअपनी मालिकन को चोदना शु

कर िदया था। उसेभी अब यकीन हो गया था िक उसकी मालिकन उसकी कुिया हैिजसेवो जैसेचाहेचोद

सकता है। उसके धोंमतेज़ी आती जा रही थी और हर धे के साथ टॉमी का लंड समीना की चत म सकता ह। उसक धो म तज़ी आती जा रही थी और हर ध क साथ टॉमी का लड समीना की चूत म

गहराइयोंतक जा रहा था। समीना हर हर धे के साथ कराहती ई आगेको िगरनेलगती िजससेटॉमी का

लंड िफसल जाता। इस चीज़ को कं टोल करनेके िलयेटॉमी नेअपनेअगलेदोनोंपैर समीना के कं धोंपर रखे

और अपना मुँह आगेला कर समीना के गलेमबंधा आ उसका पा अपनेअगलेदाँतोंमलेिलया और

समीना को अपनी पूरी कूवत के साथ अपनी तरफ़ खीचनं ेलगा और साथ ही पीछेसेज़ोर-ज़ोर के धे मारता

आ अपना लंड जड़ तक समीना की चूत मदाखल करनेकी कोिशश करनेलगा। समीना का लत के मारे

बुरा हाल हो रहा था मगर उसके साथ-साथ उसेअपनी चूत मददभी काफ़ी हो रहा था। मगर िफ़र भी अब वो

बेबसी के साथ टॉमी की िगर मझुकी ई थी और उससेचुदवा रही थी। उसकी चूत नेइस दिमयान एक बार

पानी छोड़ िदया था।.

कुछ देर मटॉमी की िगर ढीली ई। उसनेसमीना के गलेमडला आ पा अपनेमुँह सेिनकाला तो

समीना अचानक सेउसके नीचेसेिनकल गयी और अपनेघुटनोंऔर हाथोंपर ही भागती ई सोफ़े की तरफ़

बढ़ी। टॉमी भला अपनी कुिया को कैसेछोड़ सकता था। वो फ़ौरन ही उसके पीछे-पीछेलपका। हंसती ई

समीना सोफ़े पर पँची और वहाँसीधी हो कर लेट गयी। उसनेअपनी टाँगोंको खोला और अपनी चूत एक बार

िफ़र टॉमी के आगेकर दी। टॉमी नेआतेसाथ ही समीना की चूत को चाटना शु कर िदया और अपनी लंबी

ज़ुबान के साथ ऊपर सेनीचेतक उसकी चूत को चाटनेलगा। एक बार िफ़र टॉमी नेऊपर को छलांग लगायी

और अपनेअगलेपैरोंको समीना िक कमर के दोनोंतरफ़ सोफ़े के ऊपर रखा और समीना के तक़रीबन ऊपर

ही चढ़ आया। उसका लंड नीचेसेसमीना की चूत के करीब था और उसकी चूत के इदिगदटकरा रहा था।

एक बार िफ़र समीना नेहाथ बढ़ा कर टॉमी के िचकनेलाल-लाल लंड को अपनेहाथ मपकड़ा और उसेअपनी

चूत के ऊपर रगड़नेलगी। टॉमी के मोटेलंड को अपनेहाथ की िगर मरख कर उसेअपनी चूत पर रगड़ना

बहोत ही मुल काम था समीना के िलयेोिकं टॉमी तेज़ी के साथ धे मार रहा था… येचुदाई कहानी

आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।अपना लंड अपनी मालिकन की चूत के अंदर दाखल करने

के िलये। और िफ़र समीना नेकुेके लंड की नोक को अपनी चूत के सुराख पर िटकाया और अगलेही ले

कुेके एक ही धे के साथ ही उसका लंड समीना की चूत के आखरी िसरेतक उतर गया। समीना के मुँह

सेएक ददओर मी भरी तेज़ चीखं िनकली मगर उसके बाद तो देदनादन कुेनेसमीना की चूत को चोदना

शु कर िदया। उसका लंड तेज़ी के साथ समीना की चूत मअंदर-बाहर हो रहा था और समीना भी अब अपनी

आँखबंद करके उसके लंड के तेज़ी के साथ अपनी चूत मअंदर-बाहर होनेकी तकलीफ को बदा कर रही

थी और साथ मही मज़ेभी लेरही थी। चंद बार ही टॉमी का लंबा लंड समीना की चूत के अंदर आखरी हद

तक टकराया तो समीना की चूत नेपानी छोड़ िदया। उसके िज नेतेज़-तेज़ झटके िलयेऔर चूत की दीवारों

नेटॉमी के लंड को भीचा ं और साथ ही अपना पानी िनकल गया उसका!

समीना का िज िनढाल सा हो गया था… वो ढीली पड़ चुकी थी मगर टॉमी तो अभी भी मी मथा। एक कुा

हो कर… एक खूबसूरत औरत की चूत िमलनेका नशा था उस पर और वो बस उसेचोदेजा रहा था। उसके

लंबेमोटेलाल लंड की नोक समीना की चूत के अंदर उसकी बा दानी सेटकरा रही थी और वो और भी ज़ोर

लगा रहा था जैसेिक वो अपनेलंड को समीना की बा दानी के अंदर दाखल करना चाहता हो। टॉमी अपने

दोनोंपैर समीना की कमर के िगदरख के अगलेिहेसेसोफ़े पेचढ़ा आ था और पूरेका पूरा समीना के

नाज़ुक िज के ऊपर था। समीना नेटॉमी के लंड को उसके िपछलेिहेकी गोलाई के पीछेसेपकड़ रखा

था तािक आज टॉमी अपनेलंड का येखतरनाक िहा उसकी चूत के अंदर दाखल ना कर सके और आज भी

वो कल की तरह उसके लंड पर ही फं सी ना रह जये। मगर… टॉमी के इरादेतो खतरनाक ही थे। आखर था

तो वो एक जानवर ही ना और वो भी एक वहशी जानवर जो िक हवस और सै की आग मऔर भी वहशी हो

जाता हैऔर टॉमी वहशी ही तो होता जा रहा था। उसके धो… ं येचुदाई कहानी आप एड से कहानी

डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।उसके घोंकी रार तेज़ सेतेज़ होती जा रही थी। उसकी भी एक ही ािहश थी

ना िक अपनी चुदाई की तकमील कर सके और वो तकमील तो तब नहींहो सकती थी जब तक िक उसका लंड

पूरेका पूरा यिन उसकी गोलाई उसकी कुिया… उसकी मालिकन… उसकी समीना की चूत के अंदर जाकर

ना फं स जायेोिकं उसके िबना तो कुोंको शायद मज़ा ही नहींआता था ना! और यही हालत टॉमी की थी!

उसकी पूरी कोिशश थी के अपना लंड समीना की चूत मपूरेका पूरा डाल देऔर अपनेताक़तवर धोंकी

मदद सेआखरकार वो अपनी इस कोिशश मकामयाब हो ही गया। शराब के नशेऔर चुदाई की मी म

समीना भी तो उसकी ताक़त का मुक़ाबला नहींकर सकती थी ना ादा देर तक! आखर उसका हाथ भी टॉमी

के लंड पर सेहट गया और अगलेही लेटॉमी का पूरा लंड अपनी िपछली गोलाई समेत उसकी चूत के अंदर

उतर गया और उसकी टाइट चूत नेटॉमी के लंड को जकड़ िलया और टॉमी के लंड का अगला नोकीला िहा

समीना की बा दानी का सराख पार करता आ बा दानी के अंदर घस ही गया। एक तेज़ चीखं के साथ  समीना की बा दानी का सुराख पार करता आ बा दानी क अदर घुस ही गया। एक तज़ चीख क साथ

समीना नेअपनेबाज़ूटॉमी के नीचेसेउसके िज के िगदलपेट िलयेऔर उसेअपनेिज के साथ दबा

िलया।येचुदाई कहानी आप एड से कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहेहै।जैसेही टॉमी के लंड का अगला

िहा समीना की चूत के अंदर दाखल आ तो एक बार िफ़र समीना की चूत नेपानी छोड़ िदया और उसेखुद

भी टॉमी के लंड सेहा-हा पानी उसकी चूत के अंदर िगरता आ महसूस होनेलगा। समीना की आँख

बंद थींऔर उसकी चूत पानी छोड़ रही थी और वो एक बार िफ़र अपनी मंिज़ल को पँच चुकी थी। कुछ देर के

बाद समीना को थोड़ा होश आया तो उसेएहसास आ िक वो टॉमी के नीचेहै… उसके िज के साथ िलपटी

ई है… टॉमी का लंड उसकी चूत के अंदर हैऔर उसकी तमामतर कोिशश के बावजूद भी टॉमी के लंड की

मोटी गोलाई उसकी चूत के अंदर फं स चुकी है। इस सारी सूरत-ए-हाल को समझनेके बाद समीना िसफ़

मुुरा कर रह गयी िक अब उसेकुछ देर इंतज़ार करना पड़ेगा…टॉमी के फ़ारग़ होनेका! अपनी चूत मकुे

के लंड के फं सेहोनेका भी आखर अलग ही मज़ा है… अलग ही… बेहद मी भरा एहसास है!कैसी लगी

कुेके साथ औरत की से , अा लगी तो शेयर करना

LihatTutupKomentar